श्ब्द की शक्ति

-बलविन्द्र ‘बालम’

प्राचीन समय में जब शब्दों का अस्तित्त्व उत्पन्न नहीं हुआ होगा तब कैसा लगता होगा? यह कल्पना करने पर अनुभव होता है कि उस समय ज़िंदगी की कार-गुज़ारी अत्यंत मुश्किल होती होगी। वस्तुओं की आवश्यकता के अनुसार स्वतः ही नामों का अस्तित्त्व पैदा हुआ होगा। आहिस्ता-आहिस्ता समय के साथ-साथ शब्दों को संवारा तथा सही स्थान दिया जाता रहा होगा। कई शताब्दियों के पश्चात् मनुष्य विकास की जड़ों से शुद्ध शब्द रूपी फल लगे होंगे तथा लगते गए।

शब्दों के बिना इन्सान की ज़िंदगी अधूरी है। शब्द ही हैं जो मनुष्य को, समाज को, एक दूसरे के साथ जोड़ते हैं। शब्द-शक्ति के बग़ैर मनुष्य की ज़िंदगी सफ़ेद काग़ज़ की तरह है। अक्षरों के अतिरिक्त ज़िंदगी उस मरुस्थल की भांति है जिस में कोई नदी नहीं है। शब्दों के बग़ैर मनुष्य की ज़िंदगी गूंगे की ज़ुबान की तरह है। शब्दों के बग़ैर मनुष्य पशु समान है।

आध्यात्मिक लोग शब्दों की शक्ति समझने में समर्थ होते हैं। शब्द कभी मरते नहीं। इन के अर्थों का संदेश दिमाग़ में कीटाणुओं की तरह प्रवेश करके असर करता है। आप ने देखा होगा कि जब हमें कोई अभिवादन की मुद्रा में झुक कर सलाम करता है तो उसका संदेश इतना विनम्र तथा शांत होता है कि समस्त शरीर खिल-सा जाता है। यह सब शब्दों की शक्ति की बदौलत ही तो है। अगर कोई मनुष्य जो आप का दुश्मन है या विरोधी है, जो आप को घूर कर, माथे पर बल डाल कर देखता है तथा आप के प्रति बुरे शब्दों तथा गंदी गालियों का प्रयोग करता है तो निश्चय ही, उन गंदे शब्दों के संदेश के कीटाणुओं का असर दिमाग़ पर बुरा होगा। दिमाग़ में यह संदेश प्रवेश करते ही आप का मन अत्यंत दुखी होगा तथा आप उन गंदे शब्दों के विपरीत विवाद खड़ा कर सकते हैं। ऐसा करते हैं आप? आप ने कभी ध्यान से सोचा? आध्यात्मिक पुरुष, साधु, फकीर, संतुलित दिमाग़ के स्वामियों पर शब्दों के संदेश इतनी जल्दी असर नहीं करते। वे शब्दों के संदेश अपनी चेतनता तथा समझ के साथ विचारते हैं। काफ़ी समय बाद उन के असर को तोल कर फ़ैसला लेते हैं। तेजस्वी शब्दों का असर भी पर्यायवाची क्रिया की गति-सा होता है। जिस से मनुष्य के विचारों तथा सोच में दरारें-सी आ जाती हैैं। विरोधाभास की अग्नि शरीर से उत्पन्न नहीं होती। संतुलित दिमाग़ के लोगों में विरोधाभास की अग्नि इतनी तेज़ी से उत्पन्न नहीं होती। वे शब्दों की मिसाइलों को अपने संतुलन की मिसाइलों के साथ दिमाग़ में प्रवेश होने के पूर्व ही बर्बाद कर देते हैं। मिसाइलों की भांति शब्द ही दिमाग़ में प्रवेश करके तोड़-फोड़ तथा बर्बादी पैदा करते हैं।

समस्त धर्मों का अपना मंगलाचरण तथा धार्मिक प्रतीक-चिन्ह होता है। परमात्मा की प्रकृति के अस्तित्त्व का प्रतीक। जैसे एक ओंकार, ओम इत्यादि। इन शब्दों का दिमाग़ में प्रवेश होना ही मंगलमय होता है। बेशक कई लोगों को इन अक्षरों को सुनते ही एक शान्ति-सी शरीर में लहरा जाती है। रब, ईश्वर, अल्लाह, भगवान् इत्यादि के अस्तित्त्व का सृष्टि रचनहारे के अस्तित्त्व का पता ही न चलता। उस को किस नाम से, कैसे संबोधित करते? यह सब शब्द की ही करामात है।

प्यार के शब्दों से अपनत्व पैदा होता है। बहुत से लोग शब्दों की शक्ति से परिचित ही नहीं। उन्हें शब्द-शक्ति की समझ ही नहीं। वे तो दैनिक ज़िंदगी में दिन-रात इतने व्यस्त हैं कि उन्होंने इस बारे में कभी सोचा ही नहीं। घरेलू झगड़े, युद्ध, तकरार, ईर्ष्या इत्यादि शब्दों की शक्ति की बदौलत ही तो है। प्रेम, श्रद्धा, आध्यात्मिकता सब का स्त्रोत तो शब्द ही है। इनकी अभिव्यक्ति शब्दों से ही की जा सकती है। जो लोग शब्दों की शक्ति को समझ लेते हैं वे बहुत कम दुखी होते हैं। बुरे शब्दों को वे दिमाग़ में प्रविष्ट होने ही नहीं देते। जिस से उन का संतुलन बरकरार रहता है तथा वे विपरीतार्थी शब्दों के असर ग्रहण नहीं करते। अन्ततः हम इसी निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि शब्दों की शक्ति को समझना ही जीवन है। जिस के पास यह चाबी है वह प्रत्येक तरह के दिमाग़ी तालों को खोल सकने का सामर्थ्य रखता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*