शीत ऋतु में त्वचा की देखभाल

शीत ऋतु सेहत बनाने और सौंदर्य निखारने के लिए उत्तम ऋतु है आवश्यकता है बस कुछ देखभाल की। इस ऋतु में ठंडी खुश्क हवाएं चलती हैं जो त्वचा को कुछ रूखा बना देती हैं। थोड़ी-सी समझदारी से आप अपनी त्वचा को खुश्क होने से बचा सकती हैं।

शरीर को तेज़ सर्दी के प्रकोप से बचाएं। उचित गर्म वस्त्र पहनें। त्वचा रूखी और खुरदरी होने पर अच्छी क्वालिटी की कोल्ड क्रीम लगाएं।

हाथों, बाजुओं को सुन्दर बनाए रखने के लिए जैतून के तेल की या मलाई की मालिश करें। इससे हाथों की त्वचा की सुन्दरता बढ़ती है।

पैरों की बिवाइयां फटने पर या पैर खुरदरे होने पर ग्लिसरीन के साथ नींबू का रस मिलाकर पैरों पर लगाएं। पैरों की त्वचा कोमल व नर्म हो जाएगी।

कोहनी पर मैल जमने की स्थिति में गुनगुने पानी में साफ़ नेपकिन भिगोकर कोहनी को अच्छी तरह साफ़ कर कोल्ड क्रीम लगाएं। कोहनी साफ़-सुथरी और मुलायम नज़र आएगी।

सर्द हवाओं के कारण होंठ खुश्क होने लगें या फटने लगें तो उस पर घी, मलाई लगाएं। इन के नियमित प्रयोग से होंठ मुलायम और नर्म हो जाएंगे।

ज़ुकाम होने से नाक लाल पड़ जाये तो उस पर हल्के हाथों से वैसलीन की मालिश करें।

चेहरे की चमक बनाए रखने के लिए बादाम को बारीक पीस कर दूध में मिलाकर लगाएं या ग्लिसरीन में नींबू मिला कर चेहरे पर लगाएं।

सर्दी में चेहरे को तेज़ धूप से बचाएं। धूप में जब भी बैठें, धूप की तरफ़ पीठ करके बैठें।

चेहरे, हाथ, पांव और बाजुुओं की मालिश प्रतिदिन अच्छी कोल्ड क्रीम से करें। इससे त्वचा में निखार आता है और त्वचा मुलायम बनी रहती है।

हाथ, पांव और चेहरे पर मॉइस्चराइज़र का प्रयोग करें।

सर्दी के मौसम में महीने में एक बार फेशियल अवश्य कराएं ताकि त्वचा में खिंचाव बना रह सके।

होंठों पर लिपस्टिक लगाने से पूर्व थोड़ा फाउंडेशन होंठों पर लगा लें तो लिपस्टिक अधिक समय तक होंठों पर टिकी रहेगी।

सर्दियों में त्वचा को पुष्ट रखने के लिए गाजर, पालक, टमाटर का जूस या सूप का सेवन नियमित करें।

अधिक समय तक भूखे न रहें। प्रतिदिन भोजन में प्रोटीन, विटामिन, खनिज, चर्बी व कार्बोहाइड्रेट को उचित स्थान दें ताकि भोजन द्वारा आप अपने शरीर और त्वचा को निखार सकें।

रात्रि में जल्दी सोकर, सुबह जल्दी उठें। खूब व्यायाम करें और पैदल चलें।

इन सब चीज़ों को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं और स्वयं को सर्दी से बचाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*