सर्दियों में खूबसूरती बनी रहे

-पूनम दिनकर

ठंड का मौसम शुरू होते ही या एक-दो सप्ताह पहले ही नहाने के पहले पन्द्रह-बीस मिनट तक राई के तेल या किसी अच्छे क़िस्म के बेबी ऑयल से चेहरे और हाथ-पैरों की ऊपर से नीचे की ओर मालिश करती रहें।

उबटन का प्रयोग अवश्य करें। उबटन हेतु मसूर की पिसी हुई दाल में चार चम्मच कच्चा दूध मिलाएं। सामान्य एवं तैलीय त्वचा के लिए बेसन, हल्दी व दूध को मिलाकर उबटन बनाएं। उबटन में आधा चम्मच ऑलिव ऑयल मिलाकर लगाने से अधिक असर होता है। उबटन का प्रयोग करने से त्वचा चमकदार, साफ़ व मुलायम बनी रहती है और रंग भी निखरता है।

जाड़े में फेस पाउडर व फाउंडेशन इत्यादि का प्रयोग बिल्कुल नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे त्वचा की प्राकृतिक चमक प्रभावित होती है। जाड़े के मौसम में पाउडर का प्रयोग करने से त्वचा रूखी-सूखी व झुर्रीदार दिखाई देने लगती है।

ठंड में अधिकतर महिलाओं के पैर भद्दे नज़र आने लगते हैं इस मौसम में एडियां अधिक फटा करती हैं। प्रतिदिन नहाते समय ब्रश से एड़ियों को साफ़ करना चाहिए। सप्ताह में एक बार गुनगुने पानी में बीस मिनट तक पैरों को डालकर बैठिए। फटी हुई त्वचा इससे फूल जाएगी। ब्रश से साफ़ करके कोल्ड-क्रीम या वैसलीन लगा कर ऊपर से गर्म जुराब पहन लें। इससे पैरों की खूबसूरती बनी रहती है।

ठंड में हथेलियों पर झुर्रियां नज़र आने लगती हैं, जिससे हाथों की सुन्दरता समाप्त हो जाती है। हाथों की सुन्दरता को बनाए रखने के लिए दो चम्मच शहद व आधा चम्मच नींबू के रस को मिलाकर थोड़ी देर तक अंगुलियां व सम्पूर्ण हथेलियों पर अच्छी तरह से रगड़िए। कुछ ही देर बाद नवीन ताज़गीयुक्त हाथ आपके सामने होंगे। हाथों को धोने के बाद नींबू मिला गुलाबजल लगा लें। नींबू व मलाई मिलाकर भी हाथों पर मलने से हाथ सुन्दर नज़र आने लगते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*