Author Archives: aman

विश्वास का खून

‘राहुल...’, शब्द ही निकला था और मुन्नी की रूलाई फूट पड़ी थी। रुकी तो वह भरे स्वर में बोली थी- ‘कहां थे तुम? जानते नहीं तुम्हारी आवाज़ सुनने के लिए हम पल-पल तड़प रहे हैं।

Read More »

गर्भावस्था और नॉज़िया

नॉज़िया गर्भावस्था की साधारण समस्या है। इससे घबराएं नहीं और कुछ बातों पर विशेष ध्यान दे थोड़ा-थोड़ा भोजन कम अंतराल में खाते रहें। ख़ाली पेट रहना नॉज़िया को बढ़ावा देता है।

Read More »

दास्तान मेरी

मैं क्या सुनाऊं तुम्हें दास्तान मेरी क़िस्मत भी है मुझपे हैरान मेरी मैं एक पत्थर पड़ा था गली में कोई बना गया तराश के शान मेरी वफ़ओं के बदले मिली हैं सज़ायें

Read More »

दिल की दास्तान

जिस्म बेजान कोई हो जैसे खुद से अनजान कोई हो जैसे दिल में आहट, न कोई हलचल है राह वीरान कोई हो जैसे हमसे कहते हैं मुस्कुराने को काम आसान कोई हो जैसे

Read More »

इक तेरे चले जाने के बाद

हम भी रोये यह दिल भी रोया बुलबुल भी रोई और गुल भी रोया तन्हाई में डूबा हर पल भी रोया इक तेरे चले जाने के बाद... चुपके से चल दिये न ख़बर की हालत देखो तो आकर जिगर की

Read More »

वो पल

वो पल जब तुम आये मेरा हाथ मांगने पर निकाल दिये गये घर से ये कहकर, “तुम्हारी जाति हमसे मेल नहीं खाती” टूट गई मैं ब्याह दी गई अपनी जाति में

Read More »