शबनम शर्मा

अहसास

अचानक उसका तबादला दूर-दराज़ किसी स्थान पर हो गया और इधर उसकी बीवी आपातकलीन स्थिति में। रामस्वरूप को समझ नहीं आ रहा था कि करे तो क्या करे

Read More »

लड़की जब सोलह साल की हुई

आईना शरमाने लगा, यौवन बल खाने लगा, लड़की जब सोलह साल की हुई। बाबुल के जूते सरकने लगे, मैया के सपने चटकने लगे, लड़की जब सोलह साल की हुई।

Read More »

पैबंद

ज़र्रा-ज़र्रा, कतरा-कतरा दुश्मन मेरा होता गया सिलसिला हर बात से जब तेरा होता गया तेरे नाम का जो पैबंद मेरी जिंदगी पर लग गया

Read More »

रास्ता

होश संभलते ही शुरू हो गया चलना ज़िन्दगी के रास्ते की ओर, बिन परवाह किए, गरम हवाओं की, सरद थेपड़ों की बर्फीले टीलों की

Read More »

सिलसिला

कितनी बार टूटकर बिखरते हैं हम कितनी बार बिखर कर सिमटते हैं हम कि ये सिलसिला एक दिन नहीं दो दिन नहीं ताउम्र चलता है

Read More »

वो पल

वो पल जब तुम आये मेरा हाथ मांगने पर निकाल दिये गये घर से ये कहकर, “तुम्हारी जाति हमसे मेल नहीं खाती” टूट गई मैं ब्याह दी गई अपनी जाति में

Read More »

काग़ज़

शायद नहीं जानता ये अबोध बालक इस काग़ज़ के टुकड़े की क़ीमत तभी मरोड़ रहा है, फाड़ रहा और हंस रहा है

Read More »

मैं क्या हूं

ज़िंदगी के आख़िरी पड़ाव में नज़र आई ज़िंदगी की संकरी गलियां, पथरीले रास्ते भीगी छत और गर्म लू से कई हादसे क्यूं आख़िर क्यूं सबकी उम्मीदें टिक जाती इक औरत पर

Read More »

अंधेरा

तुम क्यों बार-बार अंधेरे में, मेरे दिल के इक कोने से आवाज़ देते हो मुझे दौड़ती हूं चहुं ओर क्योंकि गूूंजती है तुम्हारी आवाज़

Read More »