Author Archives: saropama

घरेलू हिंसा और महिलाओं की स्थिति

नारी के बिना किसी समाज की परिकल्पना करना दुःस्वप्न मात्र है। उसे अपमानित, उपेक्षित व प्रताड़ित करना अपने पैरों पर स्वयं ही कुल्हाड़ी मारने जैसा यत्न है।

Read More »

भगवान् का घर

उसे समझाया गया, “जयन्त को तो कोई शिकायत नहीं। तुझे प्यार करता है। सब ठीक हो जाएगा धीरे-धीरे। चिन्ता मत कर।” सब सुनने के बाद माता-पिता कहते “कैसे रखें ब्याही बेटी को घर।”

Read More »

रिश्ते क्यों टूटते हैं?

आज का युग बहुत ही गतिशील और परिवर्तनशील है। ज़माना बदलता जा रहा है, चीज़ें बदलती जा रही हैं, लोग बदलते जा रहे हैं, रिश्ते टूटते जा रहे हैं।सांझे परिवार टूटकर बिखर रहे हैं

Read More »

आज के बच्चों को स्वतन्त्रता

अगर यूं कहा जाये कि बच्चों की स्वतंत्रता पूरी तरह उनके हित की या समाज और देश हितकारी है तो सरासर ग़लत होगा, क्योंकि अकेले फूल शायद ही कभी मिले हों कांटे भी साथ होते ही हैं।

Read More »

सहनशक्ति

उसने माहौल को विनोदपूर्ण बनाने और घायलों की हौसला-अफ़ज़ाई करने के लिए हंसते हुए कहा, ‘दोस्तो! नक़ली टांग का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इस पर चोट लगने का एहसास नहीं होता।’

Read More »

पोस्ट स्क्रिप्ट

‘वह देश भी इसी देश जैसा है। वहां भी लोग मक़बरे में रहते हैं,’ मित्ती हंसी, उसकी हंसी में बहुत कांटे थे। वह बोली, ‘जानते हो? ... हमारी ही तरह वे लोग भी नहीं जानते कि जहां वे रहते हैं वो घर नहीं। बस अपनी तरह वे भी रह ही लेते हैं।

Read More »

चेहरे पर असमय आती झुर्रियां

झुर्रियां उभर आना प्राकृतिक क्रिया है और इसे पूर्णरूपेण रोका भी नहीं जा सकता है लेकिन सौंदर्य उपचार को अपनाकर इसकी रफ़्तार को कम किया जा सकता है

Read More »

सही समय पर करें कैरियर का चुनाव

कैरियर का मुद्दा सीधे जीवन से जुड़ा है। अगर आप अपनी रुचि का ही कैरियर बनाते हैं तो आपका काम में मन लगेगा साथ ही आप उस क्षेत्र में बेहतर प्रगति कर सकते हैं।

Read More »

युवाओं में आकर्षण का केन्द्र बनी आधुनिकता

क्या है आधुनिकता? जो युवाओं को आकर्षित करती है। आधुनिकता विभिन्न प्रकारों की होती है जैसे- आधुनिक व्यवहार, आधुनिक विचार, आधुनिक जीवन शैली, आदि।

Read More »