लघुकथा

आस्था में सेंध

पंडित ने कहा था यजमान आपके भाग्य का सितारा चमकने वाला है कुछ ही देर के बाद आपकी अपनी कोठी होगी और आपके पास अमुल्य धन सम्पदा होगी।

Read More »

 वृक्षों का क़त्लेआम

लिपिक ने सलाह देने से पूर्व मुख्याध्यापक से वृक्ष कटवाने का कारण पूछा - ‘सर, वृक्ष कटवाने की ज़रूरत कहां पड़ गई? वृक्षों के कारण तो विद्यालय हराभरा लग रहा है। छायादार वृक्ष हैं।’

Read More »

अहसास

अचानक उसका तबादला दूर-दराज़ किसी स्थान पर हो गया और इधर उसकी बीवी आपातकलीन स्थिति में। रामस्वरूप को समझ नहीं आ रहा था कि करे तो क्या करे

Read More »

सामना

तभी अगले स्टॉप पर एक सुंदर युवती बस में चढ़ी। उसने जगह की तलाश में इधर-उधर नज़रें फिराई।

Read More »

समझ

उस लड़की ने बिना विरोध के आत्म-समर्पण कर दिया था और उसकी रात … मगर बाद में वह बेहद हैरान हुआ जब वह लड़की हंसे ही जा रही थी।

Read More »

मूल्यांकन

उसके अन्दर लड़की के प्रति बेपनाह दया उमड़ने लगी- बेचारी किसी ठीक-ठाक घर परिवार में जन्मती तो स्कूल जाती। हंसती-खेलती...

Read More »

नारी की नियति

कहानी में फै़सला तुमने पाठकों पर छोड़ दिया। लेकिन तुम्हारे विचार में तुमने उसके शोषण के प्रति क्या निर्णय लिया? क्या उसकी कोई मदद...।

Read More »

भगवान् का घर

उसे समझाया गया, “जयन्त को तो कोई शिकायत नहीं। तुझे प्यार करता है। सब ठीक हो जाएगा धीरे-धीरे। चिन्ता मत कर।” सब सुनने के बाद माता-पिता कहते “कैसे रखें ब्याही बेटी को घर।”

Read More »

सहनशक्ति

उसने माहौल को विनोदपूर्ण बनाने और घायलों की हौसला-अफ़ज़ाई करने के लिए हंसते हुए कहा, ‘दोस्तो! नक़ली टांग का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इस पर चोट लगने का एहसास नहीं होता।’

Read More »