उम्र के बदलते दौर

आवश्यक है सर्दियों में नवजात शिशु की देखभाल

शिशु को ठंड से बचाने का सबसे अनमोल व सरल उपाय है कि उसे खूब हंसाए या रोते हुए को कुछ देर तक चुप न कराएं। इन सब उपायों का प्रयोग करके आप अपने बच्चे को ठंड से बचा सकती हैं व भय मुक्त हो सकती हैं।

Read More »

बच्चों को अनुशासित करें

कुछ माता-पिता को इस बात की अधिक चिन्ता रहती है कि लोग उनके बच्चों के बारे में क्या सोचते हैं तथा वे ज़रूरत से अधिक चिन्तित होते हैं।बच्चे इस बात से शशोपंज में पड़ जाते हैं कि कभी जिस काम से मां-बाप उनको रोकते हैं कभी क्यों नहीं रोकते हैं।

Read More »

आख़िर किसे बनाएं युवा अपने जीवन का आधार

लड़कियां जब 14 से 18 वर्ष की आयु में होती हैं तो यह एक अति विशेष परिस्थितियों वाला समय होता है। हम केवल लड़कियों की बात इसलिए कर रहे हैं क्योंकि नारी जाति को ही गृहस्थ धर्म का आधार माना जाता है

Read More »

टी.वी देखकर बच्चों को हो सकती है भयंकर बीमारियां

बच्चे टी.वी. पर हिंसा व मार-धाड़ वाले दृश्य बड़े ही चाव से देखते हैं। लेकिन उनका दिमाग़ इतना मैच्योर नहीं होता कि वे ऐसे दृश्यों को पचा पाएं।

Read More »

रिश्तों की पुकार

यूं तो इन्सान का सम्बन्ध बचपन से ही किसी दूसरे के साथ होता है। जन्म के समय मां के साथ, बचपन में भाई बहन व साथियों के साथ परन्तु असली समझ का सम्बन्ध बनता है, जब वह किशोर अवस्था में होता है।

Read More »

बच्चों को खेलों द्वारा शिक्षा देने की आवश्यकता

एक अन्य ढंग जिस की ओर लोगों का रुझान बढ़ रहा है वह है बच्चों को खेलों द्वारा दी जाने वाली शिक्षा का ढंग। खेल-खेल में बच्चे अधिक सीख पाते हैं इसीलिए इस ढंग को अपनाया जा रहा है।

Read More »

चक्कर दोस्ती का

दोस्त अच्छा हुआ तो आप को बना सकता है, ख़राब हुआ तो बिगाड़ सकता है। यह बात लड़के-लड़कियों दोनों पर आधारित है और दोस्ती समलिंगी हो या विषम-लिंगी, दोनों में सच है।

Read More »

बेटी जब बड़ी होने लगे

बेटियां आजकल यौन-उत्पीड़न के ख़तरे तले बड़ी होती हैं। ये ख़तरे अक्सर घर परिवार या जान-पहचान वालों की तरफ़ से आते हैं। माएं अपनी बेटियों को इनसे आगाह करके रखें, तो बहुत सारी समस्याएं तो पैदा नहीं होंगी।

Read More »

नई पीढ़ी में भटकाव इंटरनेट अश्लीलता

ई-मेल और फी-मेल के इर्द-गिर्द बुना हुआ इंटरनेट का यह माया जाल बड़ी तेज़ी से हमारे युवाओं और बच्चों को अपने शिकंजे में जकड़ रहा है। इसलिए ज़रूरी है कि हम इस बात का पता लगाएं कि कहीं हमारे बच्चे तो इस राह पर नहीं चल पड़े।

Read More »