Writers

जीवन का आधार खेलें

आन्तरिक पवित्रता के लिये शुद्ध आचरण तथा अन्तर्ध्यान द्वारा परम सत्ता से जुड़ाव रखना होगा। बाहरी सुन्दरता के लिये शरीर का हृष्ट-पुष्ट और निरोग रहना अति अनिवार्य है।

Read More »

भगवान् से बड़ी है नारी

बालिका रूप में कंजकों का पूजन इस बात को प्रमाणित करता है कि नारी शक्ति स्वरूपा, सृष्टि की कर्ता, सर्वगुण सम्पन्न और वरदान देने वाली है।

Read More »

घर को स्वर्ग कैसे बनायें

परिवारों में दु:ख का कारण परिवारों में टूटन बिखरन और अलगाव की वृद्धि होती जा रही है। संयुक्त परिवार की हमारी पुरातन विरासत और सभ्यता समाप्त होती जा रही है।

Read More »

पीने के पानी को तरसते लोग

एक तरफ़ तो हम डिजिटल इंडिया का सपना देख रहे हैं, न्यू इंडिया की कल्पना कर रहे हैं। दूसरी तरफ़ जनता बूंद-बूंद पानी को तरस रही है, प्यास से मर रही है

Read More »

ज़िन्दगी क्या है?

इस ब्राह्मांड में तीन लोक हैं, पृथ्वी लोक, जिस पर हम रह रहे हैं। स्वर्ग लोक, देव लोक, पाताल लोक। इन के परमात्मा ने अलग-अलग स्वामी नियत किये हैं।

Read More »

नारी सशक्तिकरण कैसे हो ?

कोई उसकी पुकार सुनने वाला नहीं है। प्रशासन क्यूं बेबस हो जाता है, कानून क्यूं घुटने टेक देता है, पुलिस क्यूं ख़ामोश रहती है पता नहीं।

Read More »